पीएम के संसदीय क्षेत्र मे ठेकेदार आत्महत्या मामले में पीडब्ल्यूडी के चीफ इंजीनियर को लखनऊ संबद्ध

0

वाराणसी।PNI News। पिछले दिनों वाराणसी में ठेकेदार के द्वारा आत्महत्या करने के मामले में जेई समेत 5 लोगों को पिछले दिनों निलंबित कर दिया गया था। जिसके बाद सोमवार को बड़ी कार्रवाई करते हुए शासन ने चीफ इंजीनियर को वाराणसी से हटाकर लखनऊ संबद्ध कर दिया है। बता दें कि ठेकेदार द्वारा चीफ इंजीनियर के कार्यालय में खुद को गोली मारकर आत्महत्या कर लेने के बाद सरकार बड़ी कार्रवाई करते हुए चीफ इंजीनियर को हटाया है। पीडब्ल्यूडी के चीफ इंजीनियर अंबिका सिंह को वाराणसी से हटाकर लखनऊ मुख्यालय से संबद्ध कर दिया गया है। अगस्त में अंबिका सिंह के सामने ही उन्हीं के चैंबर में ठेकेदार ने खुद को गोली मारकर आत्महत्या कर ली थी। जिसके बाद तत्कालीन अधिशासी अभियंता आरआर गंगवार और सहायक अभियंता सत्यदेव मिश्रा को निलंबित कर दिया गया है। खंडीय लेखाधिकारी दद्दन प्रसाद के खिलाफ अनुशासनिक कार्रवाई के लिए संस्तुति का पत्र महालेखाकार प्रयागराज को भेजा गया है।

इसके बाद प्रमुख सचिव लोक निर्माण विभाग नितिन रमेश गोकर्ण ने सचिव समीर वर्मा द्वारा 31 अगस्त को सौंपी गई जांच रिपोर्ट के आधार पर यह कार्रवाई की है। बताते चले कि जांच रिपोर्ट में वाराणसी के भोजूबीर से रिंग रोड तक चौड़ीकरण एवं सुधारीकरण के काम में अनियमितता पाई गई है। जांच में पाया गया है कि अभियंता साठगांठ कर सरकारी धन का बंदरबांट भी किया गया हैं। प्रमुख सचिव ने दोषी अभियंताओं और कर्मचारियों के खिलाफ अनुशासनिक कार्रवाई भी करने की संस्तुति भी की है। प्रमुख सचिव लोक निर्माण विभाग के निर्देश पर घटना के तुरंत बाद सहायक अभियंता आशुतोष कुमार सिंह, अवर अभियंता मनोज कुमार सिंह व यूएस पांडेय, वरिष्ठ सहायक मोनूराम मौर्य और रजत राय को निलंबित कर दिया गया था। प्रमुख सचिव के निर्देश पर सचिव की अध्यक्षता में गठित तीन सदस्यीय जांच कमेटी ने मौके पर जाकर पूरे मामले की जांच की। इसमें व्यापक पैमाने पर गड़बड़ी की पुष्टि हुई है। बताया जा रहा है कि कई अन्य मामलों में यह लोग संलिप्त पाए गए थे। जिसके बाद यह कड़ी कार्यवाही की गई है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here